FESTIVALNews & update

What is Chhath Puja ? and How is the festival celebrated in Bihar

2018 में छठ पूजा की तारीख

रविवार, 11 नवंबर 2018, स्नान और खाने का दिन है।

सोमवार, 12 नवंबर 2018 उपवास का दिन है जो 36 घंटे के उपवास के बाद सूर्यास्त के बाद समाप्त हो जाता है।

मंगलवार, 13 नवंबर 2018 संध्या अर्घ्य का दिन है जो की संध्या पूजन के रूप में जाना जाता है।

बुद्धवार, 14 नवंबर 2018 सूर्योदय अर्घ्य और पारान या उपवास के खोलने का दिन है।

छठ पूजा कथा

बहुत समय पहले, एक राजा था जिसका नाम प्रियब्रत था और उसकी पत्नी मालिनी थी। वे बहुत खुशी से रहते थे किन्तु इनके जीवन में एक बहुत बचा दुःख था कि इनके कोई संतान नहीं थी। उन्होंने महर्षि कश्यप की मदद से सन्तान प्राप्ति के आशीर्वाद के लिये बहुत बडा यज्ञ करने का निश्चय किया। यज्ञ के प्रभाव के कारण उनकी पत्नी गर्भवती हो गयी। किन्तु 9 महीने के बाद उन्होंने मरे हुये बच्चे को जन्म दिया। राजा बहुत दुखी हुआ और उसने आत्महत्या करने का निश्चय किया।

chhath-puja-celebrations

अचानक आत्महत्या करने के दौरान उसके सामने एक देवी प्रकट हुयी। देवी ने कहा, मैं देवी छठी हूँ और जो भी कोई मेरी पूजा शुद्ध मन और आत्मा से करता है वह सन्तान अवश्य प्राप्त करता है। राजा प्रियब्रत ने वैसा ही किया और उसे देवी के आशीर्वाद स्वरुप सुन्दर और प्यारी संतान की प्राप्ति हुई। तभी से लोगों ने छठ पूजा को मनाना शुरु कर दिया।

Chhath Puja

सूर्य उपासना के पुरानी कथा:

बहुत समय पहले की बात है राजा प्रियवंद और रानी मालिनी की कोई संतान नहीं थी। महर्षि कश्यप के निर्देश पर इस दंपति ने यज्ञ किया जिसके चलते उन्हें पुत्र की प्राप्ति हुई। दुर्भाग्य से यह उनका बच्चा मरा हुआ पैदा हुआ। इस घटना से विचलित राजा-रानी प्राण छोड़ने के लिए आतुर होने लगे। उसी समय भगवान ब्रह्मा की मानस पुत्री देवसेना प्रकट हुईं।

उन्होंने सृष्टि की मूल प्रवृति के छठे अंश से उत्पन्न हुई हैं इसी कारण वो षष्ठी कहलातीं हैं। उन्होंने बताया कि उनकी पूजा करने से संतान सुख की प्राप्ति होगी। राजा प्रियंवद और रानी मालती ने देवी षष्ठी की व्रत किया और उन्हें पुत्र की प्राप्ति हुई।  कहते हैं ये पूजा कार्तिक शुक्ल षष्ठी को हुई थी और तभी से छठ पूजा होती है।

chhath-puja-celebrations

इस त्योहार से जुड़ी बहुत -सी प्राचीन कथाएँ हैं जिनमें से कोई रामायण काल की है तो कोई महाभारत काल की। इस पर्व की तैयारी दिवाली के बाद ही बड़े उत्साह से शुरू जाती है। छठ पूजा के पहले दिन  यानि चतुर्थी के दिन महिलाएँ चने की दाल, लोकी की सब्जी ,काअरवा चावल का  भात और रोटी आदि खाती है।

अगले दिन (पंचमी दिन )वह रात को सिर्फ गुड़ की खीर खाती है जिसे खरना कहते हैं। तीसरे दिन यानि कि षष्ठी के दिन वह निर्जला व्रत रखती है और अपनी सामर्थ्य के अनुसार 11, 21 या 51 फलों का प्रसाद बाँस के डालिया में बाँधकर अपने पति या बेटे को दे देती है और नदी की तरफ चल पड़ती है। जाते जाते रास्ते में महिलाएँ छठी माता के गीत गाती हैं।

प्रसाद के रूप में पूरी लड्डू, मिठाई, चावल का  मिला हुआ लड्डू, नारियल, शेव, संतरा, ईख, पनियाला, टाभ, मौसमी, अनार, केला, खीरा, कच्चा हल्दी इत्यादि सुप में भर कर एक डाली में भर कर माथे पर उठाकर खाली पैर घाट पर पहुँचकर पंडित से पूजा करवाकर शाम को कच्चे दूध से डूबते हुए सूर्य को अर्ध्य देती हैं। अगले दिन उदय होते हुए सूर्य को भी कच्चे दूध से अर्ध्य दिया जाता है और फिर वह अपना व्रत तोड़ती है। छठ पूजा के बाद सभी लोग बहुत खुश नजर आते हैं और वहाँ पर दिवाली जैसा दीपों की जगमगाहट  पटाखों की तर -तराहट देखने में सच मायने में दिल को छू जाती है। वो दृश्य बड़े ही मनमोहक होती है।

छठ पूजा

छठ पूजा बिहार के सबसे प्रमुख त्योहार है और इसे बिहार का त्योहारों का त्योहार कहा जाता है और छठ पूजा बिहार मे बहुत हीं धूमधाम के साथ मनाया जाता है, बिहार के छठ पूजा देखने का मजा ही कुछ और है। यह 4 दिन का त्योहार है,और जो व्रत रखता है उसे उपवास और लगभग 36 घंटों के लिए पानी की घूंट के बिना उपवास रहना होता है, एवं ठंडी के मौसम मे भी लंबे समय तक तलाब अथवा नदी के पानी में खड़े होकर डूबते और उगते सूरज को  अरग देते हैं और सुर्य भगवान की पूजा की जाती है और कुछ शुभकामनाएं देने का अनुरोध किया जाता है.

छठ पूजा बिहार की संस्कृति का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है यह ग्रीष्मकालीन एवं शीतकालीन दोनों ही समय में मनाया जाता है,लेकिन शीतकालीन छठ को शुभ माना जाता है एवं जो छठ ग्रीष्मकालीन है, उसे चैती छठ भी कहा जाता है एवं छठ पूजा के मौसम के दौरान, बिहार मे दुनिया भर के लोग इस उत्सव को देखने के लिए यहाँ आते हैं एवं बिहार के राजधानी पटना के छठ देखने का मजा ही कुछ और है क्योंकी पटना मे छठ पूजा गंगा नदी के किनारे पर मनाया जाता है.

PHOTO OF PATNA GANGA CHHAT GHAT

Photo of patna chhat ghat

patna chhat puja on ganga river

Tags

admin

Hello! I am Amit Mishra, A freelance Web & Graphic Designer and web developer based in Ranchi. I am a person who has high passion in design technologies, art and illustration. One of my dreams is to master all the design technologies and become one of the top designers, and now i am working towards it.

Related Articles

22 Comments

  1. Nice blog here! Also your web site a lot up very fast!
    What host are you the usage of? Can I am getting your affiliate hyperlink in your host?
    I wish my site loaded up as fast as yours lol

  2. Hello would you mind letting me know which web host you’re
    using? I’ve loaded your blog in 3 different browsers and I must say
    this blog loads a lot quicker then most. Can you suggest a good hosting provider
    at a reasonable price? Thanks a lot, I appreciate it!

  3. It’s an amazing paragraph designed for all the internet viewers; they will obtain advantage from it I am sure.

  4. I’ve been browsing online more than 4 hours today, yet I
    never found any interesting article like yours.
    It’s pretty worth enough for me. Personally, if all site
    owners and bloggers made good content as
    you did, the internet will be much more useful than ever
    before.

  5. Hi there I am so delighted I found your web site, I really found you by accident,
    while I was searching on Yahoo for something
    else, Regardless I am here now and would just like to say
    thanks for a fantastic post and a all round entertaining blog (I also love the
    theme/design), I don’t have time to read through it all at the moment
    but I have book-marked it and also added in your RSS feeds, so when I have time I
    will be back to read much more, Please do keep up the excellent b.

  6. you are in point of fact a just right webmaster. The web site loading pace is incredible.
    It sort of feels that you’re doing any distinctive trick. In addition, The contents are masterwork.
    you have done a great activity in this topic!

  7. Wonderful work! That is the kind of info that should be shared around the
    web. Disgrace on the search engines for now not positioning this
    submit upper! Come on over and talk over with my web site .
    Thank you =)

  8. What’s Happening i am new to this, I stumbled upon this I have found
    It positively helpful and it has helped me out loads.
    I hope to give a contribution & aid different customers like its aided me.
    Good job.

  9. Viagra Generika Rezeptfrei Viagra Keine Wirkung Effexor Depakote Licensed Pharmacies In Los Algodones Mexico Pharmacy Mail Order Online

  10. Tomar Viagra Precaucion Mifepristone En Ligne Priligy Dapoxetina 30 Mg viagra Generic Viagra Overnight Shipping Generic Cialis Reviews Contraindications For Amoxicillin

  11. Hi, i read your blog occasionally and i own a similar one and
    i was just curious if you get a lot of spam feedback?

    If so how do you stop it, any plugin or anything you can advise?
    I get so much lately it’s driving me crazy so any
    assistance is very much appreciated.

  12. This is the right site for everyone who really wants to find out about this topic.

    You realize a whole lot its almost tough to argue with you (not
    that I really will need to…HaHa). You definitely put a new spin on a subject which has been discussed for years.
    Great stuff, just great!

Close