business

आयुर्वेदिक दवाएं बेचने (Ayurvedic Medicine Shop) का व्यपार शुरू कैसे करें 2022

Ayurvedic Medicine Shop Business plan in hindi [Hindi Guide]

3/5 - (1 vote)

अगर आपको भी आयुर्वेदिक दवाओं से संबंधित जानकारी है और आप सोच रहे हैं आयुर्वेदिक दवाई का बिजनेस शुरू करने के लिए, लेकिन इससे संबंधित सही जानकारी नहीं होने की वजह से आप इस बिजनेस को शुरू नहीं कर पा रहे हैं तो आप सही जगह पर आए हैं क्योंकि आज हम इस आर्टिकल में आयुर्वेदिक दवाई बेचने (Ayurvedic medical store) का व्यापार शुरू कैसे करते हैं इसी के ऊपर बात करने वाले हैं, और आपको बताने वाले हैं कि आप आयुर्वेदिक दवाइयों का बिजनेस कैसे शुरू कर सकते हैं तो अगर आपको भी आयुर्वेदिक दवाइयों के बिजनेस से संबंधित कोई भी जानकारी चाहिए तो आप इस आर्टिकल के साथ कंटिन्यू कर सकते हैं और आयुर्वेदिक दवाइयों का बिजनेस शुरू करने से लेकर इस में लगने वाले लागत तक की सभी जानकारी हासिल कर सकते हैं।

Ayurvedic medicine shop business hindi

उसके अलावा आपकी जानकारी के लिए बता दे कि आज से 4 साल पहले तक आयुर्वेदिक दवाइयों के बिजनेस (Ayurvedic medical store business) शुरू करने के लिए किसी डिग्री की आवश्यकता नहीं होती थी लेकिन अब इस बिजनेस को शुरू करने के लिए आपके पास कम से कम आयुर्वेद फार्मेसी में डिप्लोमा या डिग्री अनिवार्य हो गया। साथ ही विभाग से लाइसेंस लेने पर ही आयुर्वेद मेडिकल स्टोर खोला जा सकेगा।

तो अगर आप भी आयुर्वेद दवाइयों का बिजनेस शुरू करने के लिए सोच रहे हैं तो उससे पहले यह सुनिश्चित कर ले की आपके पास आयुर्वेद फार्मेसी का डिप्लोमा या ग्रेजुएशन डिग्री है। तो चलिए जानते हैं की आयुर्वेदिक दवाइयों के  दुकान का बिजनेस कैसे शुरू करते हैं, और इसमें कितना लागत आने वाला है।

आयुर्वेदिक दवाएं का मार्केट डिमांड।

आज कल आयुर्वेदिक दवाएं (हर्बल उत्पादों सहित) लोगों के बीच काफी लोकप्रिय हो रही हैं, क्योकि लोग अंग्रेजी दवाइयों के साइड इफेक्ट के बारे में बहुत चिंतित हैं और chemicals और अन्य सिंथेटिक प्रोडक्ट से होने वाले नुकसान को जानते है। तो ऐसे मे आयुर्वेदिक दवाएं का मार्केट डिमांड बहुत तेजी से बढ़ रहा है। तो ऐसे मे अगर आप आयुर्वेद का बिजनेस शुरू करते हैं तो आपके लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकता है।

आयुर्वेदिक मेडिसिन के मुख्य ब्रांड & फ्रेंचाइजी (Ayurvedic medical store franchise)

वहीं अगर आयुर्वेदिक दवाइयों के मुख्य निर्माता कंपनियों के बारे में बात किया जाए तो पूरे भारत में बहुत सी कंपनी है जो आयुर्वेदिक या हर्बल प्रोडक्ट बनाती है जैसे की Dabur India Ltd. Dabur India Limited , Patanjali Ayurveda , Baidyanath , Hamdard Laboratories , Zandu Ayurveda , Himalaya Wellness , Vicco Laboratories , आदि। और आपको इन्हीं कंपनियों के फ्रेंचाइजी (Ayurvedic medical store franchise 2022) लेकर आपको आयुर्वेदिक दवाइयां का बिजनेस शुरू करना होगा।

आयुर्वेदिक दवाइयों (Ayurvedic medical store cost) के दुकान खोलने मे आने वाला लागत।

वहीं अगर आयुर्वेदिक दवाइयों की दुकान खोलने में लगने वाले लागत के बारे में बात किया जाए तो इस बिजनेस को शुरू करने के लिए आप को कम से कम 3 लाख से लेकर 5 लाख के बीच में इन्वेस्टमेंट करना होगा। उसके बाद हीं आप एक छोटे स्तर पर इस बिजनेस को शुरू कर पाएंगे।

और इसमें मुख्य लागत आपको दवाइयों के इम्पोर्ट में लगने वाला है और साथ में अगर आपके पास इस बिजनेस को शुरू करने के लिए सही जगह पर दुकान के लिए रूम उपलब्ध नहीं है तो उसके किराया का लागत आने वाला है।

Ayurvedic medicine mhop business plan 2022 [Hindi Guide]

अगर आप भी आयुर्वेदिक दवाई बेचने का दुकान का बिजनेस शुरू करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको नीचे दिए गए निम्नलिखित प्रोसेस को फॉलो करना होगा उसके बाद आप आसानी से इस बिजनेस को शुरू कर पाएंगे।

आयुर्वेदिक दवाइयों के बिजनेस से सम्बन्धित जानकारी जुटाना : सबसे पहले आपको आयुर्वेदिक दवाइयों के बिजनेस (ayurvedic medicine store business) से संबंधित सभी जानकारी को झुकाने की आवश्यकता है ताकि आगे चलकर आपको किसकी दिक्कत का सामना ना करना पड़े। उदाहरण के लिए ” इस बिजनेस को शुरू करने में लागत, फ्रेंचाइजी कैसे लें और लोकेशन का चुनाव” आदि जानकारी जुटाने की आवश्यकता होगा।

कैपिटल की व्यवस्था : जैसा कि आपको भी पता है कि किसी भी बिजनेस को शुरू करने के लिए इन्वेस्टमेंट कैपिटल की आवश्यकता होती है तो ऐसी स्थिति में आपको आयुर्वेदिक दवाइयों के बिजनेस शुरू करने के लिए भी कम से कम 3 लाख से लेकर 5 लाख तक कैपिटल जुटाने की आवश्यकता है। और अगर आपके पास इतना कैप्टन पहले से उपलब्ध नहीं है तो आप इसके लिए गवर्नमेंट द्वारा चलाए जा रहे बिजनेस लोन का भी लाभ उठा सकते हैं।

Shop & Godown की जगह का चयन : उसके बाद आपको एक सही लोकेशन पर शॉप और गोडाउन की व्यवस्था करने की जरूरत है, और गोडाउन तो आप भीड़भाड़ वाले इलाकों से कुछ दूर या और कहीं ले सकते हैं लेकिन आपको शॉप खोलने के लिए एक भीड़भाड़ वाले जगह मे दुकान खोलने की आवश्कता है।

रजिस्ट्रेशन & लाइसेंस : उसके बाद आपको इस बिजनेस को शुरू करने के लिए जीएसटी रजिस्ट्रेशन कराने की आवश्यकता होता है और साथ में ड्रग लाइसेंस लेने की भी आवश्यकता होता है।

वर्कर हायरिंग : फिर आपको अपने इस बिजनेस के लिए कुछ वर्कर की आवश्यकता होगी, जोकि आयुर्वेदिक दवाइयों की देखरेख का काम आपके गोडाउन में और आपके शॉप में अच्छे से कर सके। और साथ मे कुछ ऐसे लोगों को भी हायर करने की आवश्यकता होगी जो आयुर्वेदिक दवाइयों की जानकारी रखते होंगे।

निष्कर्ष

आशा करता हूं कि इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आपको आयुर्वेदिक दवाइयों (Ayurvedic Medicine shop Business kaise shuru kare) का दुकान खोलने में बहुत मदद मिला होगा बाकी बिजनेस संबंधित अन्य जानकारियों के लिए नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करना ना भूलें।

Bihar Feed Team

Biharfeed is dedicated to all those people who always want to be updated with Biography, Business Ideas, Entertainment, famous places to visit, And government scheme.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button